Jalore National Pali Politics RAJASTHAN

#JALORE जिले के लिए जवाई बांध जनित दुश्वारियां

  •  मानव अथवा शासन-प्रशासन की ग़लती अथवा ग़लत नीतिजनित दुश्वारियां क्यों झेलें हम?

-देवीसिंह राठौड़, तिलोड़ा
जालोर ।
पश्चिमी राजस्थान में यूं तो कभी अनावृष्टि का क़हर बरपता है और कभी अतिवृष्टि का । यह प्रकृतिजन्य प्रतिकूल परिस्थिति । किसी का बस भी नहीं चलता । क़ुदरत के आगे बेबस । लेकिन, मानव अथवा शासन-प्रशासन की ग़लती अथवा ग़लत नीतिजनित दुश्वारियां क्यों झेलें हम?
जालोर जिले के लिए जवाई बांध जनित दुश्वारियां प्राकृतिक नहीं, सरकारजन्य ही कही जाएंगी । ईस्वी सन् 1983 (विक्रम संवत् 2040) के पावसकाल में वर्षों बाद पश्चिमी राजस्थान में अतिवृष्टि हुई थी ।

जालोर जिले में जवाई (सुकड़ी) नदी में उस साल जल प्रवाह हुआ था । वो बहाव सिरोही जिले के झोरा-मगरा क्षेत्र एवं माउंट आबू के उत्तरी पठार में हुई व्यापक बारिश का पानी था न कि जवाई बांध से छोड़े गए पानी के कारण । इसके फलस्वरूप जिले के कृषि कुओं का भू-जल स्थिर हो गया था । इसके बाद लगातार अनावृष्टि का दंश । भूमिगत जलस्तर ने रसातल की राह पकड़ ली । अलबत्ता, सन् 1986 (विक्रम संवत् 2043) के वर्षाकाल में बादल बरसे अवश्य, लेकिन अन्न उपजने योग्य बरसात ही हो पाई ।

भूमिगत जलस्तर का रसातल की ओर कूच करना जारी रहा । जिले के किसानों के सामने रोज़ी-रोटी का संकट मुंह बाएं खड़ा हो गया । पशुधन बचाना टेढ़ी खीर । इसके बाद आया सन् 1987 (विक्रम संवत् 2044) का ऐतिहासिक दुर्भिक्ष। अब तक किसान अपना तथा अपने परिवार का पेट पालने एवं पशुधन को बचाए रखने के लिए अपनी जमा पूंजी, बैंकों, सेठ-साहूकारों से ऋण लेकर पानी की ख़ातिर पैसे कृषि कुओं में फूंक चुके थे । चहुंओर हाहाकार मच गया था । धूल-कंकर मिली गेहूं की भूसी भी मुंह मांगे दामों में नहीं मिल पा रही थी ।

तत्कालीन क्षेत्रीय सांसद स्वर्गीय सरदार बूटासिंह ने भारवाहक रेलों के ज़रिए उनके पैतृक राज्य पंजाब से हरे चारे के लिए गन्ना डलवाकर पशुधन बचाने का प्रयास किया भी था। क्षेत्रीय लोगों (ग्रामीण क्षेत्रों के) ने पहली मर्तबा गन्ने के रस का स्वाद चखा था । लेकिन, पशुबहुलता के मद्देनजऱ उनका यह सराहनीय प्रयास भी ऊंट के मुंह में जीरा ही साबित हुआ । गन्ना गायों की बजाए मनुष्यों एवं भैंसों के पेट में जाने लगा।गायों को बेसहारा छोड़ दिया गया सिंदूर का तिलक लगाकर। क्षेत्र में सनातन धर्म के गौरव गौवंश को पहली मर्तबा बेसहारा छोड़ा गया था । उस वर्ष प्रतिकूल परिस्थिति और उसके बाद परिपाटी बन गई ।

ईस्वी सन् 1990 (विक्रम संवत् 2047) । अद्वितीय अतिवृष्टि। पश्चिमी राजस्थान ही नहीं, अपितु राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से दक्षिण भारत के द्वारिका तक तीन दिन और तीन रात लगातार इकसार बारिश । मानो बड़े क्षेत्रफल में बादल फट गए हों । उस वर्ष एक ही वर्षाकाल में, महज़ एक माह के अंतराल में जालोर जिले में दो बार बाढ़ विभीषिका का दंश । जुलाई और अगस्त माह में ।

जवाई नदी अपने पूरे जलाल-जमाल के साथ, पूरे वेग के साथ प्रवाहित और जवाई बांध के फ़ाटक खोल दिए जाते हैं । विनाशलीला का तांडव अवर्णनीय । बागोड़ा तहसील के चैनपुरा गांव के 34 लोग बाढ़ के बहते पानी में अपनी जान से हाथ धो बैठे । यह बड़ा आंकड़ा होने से उल्लेखनीय, जबकि छिटपुट मौतों के आंकड़े इससे भी कई गुना अधिक । अनगिनत मवेशी पानी के तेज़ बहाव में बह गए । कगार ढह गए । बेशक़ीमती कृषि भूमि का कटाव हो गया ।

तत्कालीन क्षेत्रीय सांसद स्वर्गीय सरदार बूटासिंह ने चैनपुरा गांव में बाढ़ से मरने वाले 34 लोगों के परिजनों को 10-10 हज़ार रुपए की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की थी, जो केवल और केवल घोषणा बनकर ही रह गई । सरदार बूटासिंह अपने भारी भरकम लश्कऱ-लवाज़मे के साथ चैनपुरा आए थे । घोषणा करने के बाद अपने क़ाफि़ले के वाहनों से धूल के गुबार उड़ाते हुए लोगों की आंखों में धूल झोंककर चलते बने । कभी जल बिना मरें तो कभी जल से। जालोर जिले के बाशिंदों की यही नियति बन गई है ।

shrawan singh
Contact No: 9950980481

27 Replies to “#JALORE जिले के लिए जवाई बांध जनित दुश्वारियां

  1. I know thiѕ iff οff topic bᥙt I’m looking іnto starting my oᴡn blog and wɑs curious ѡһаt
    аll is required to gget setup? І’m assuming һaving a blog lіke yours woulԀ cost a pretty penny?

    I’m not νery internet smart so Ӏ’m not 100% ѕure. Any suggestions оr advice ԝould
    be greatly appreciated. Τhank you

    Alѕо visjt my webb site … haartransplantation kosten krankenkasse (https://bio.truecare.online/lorettablack)

  2. Howdy vеry cool site!!Man .. Beautiful .. Wonderful ..
    Ӏ wiⅼl bookmark your blog аnd tɑke the feeds additionally?
    Ι’m hapрy to find so mɑny helpful infοrmation гight here wіthin the puut up, we’d like work out extra techniques іn this regard, tһank you
    fօr sharing. . . . . .

    Aⅼso visit my weeb рage :: neo dhi haartransplantation

  3. Heklo friends, һow іs aⅼl, аnd what you desire to say оn the topc of tһіs post, іn my
    ѵiew its genuinely remarkable inn favor οf mе.

    Feel free to surf tо my page: saphir haartransplantation – Angelica

  4. Helⅼo, Neat post. Therе iѕ an issue ѡith yⲟur weeb site in webb explorer,
    mіght check tһis? ӀE stilⅼ is the marketplace chief
    andd ɑ big part off other folks ᴡill mіss y᧐ur onderful writing ɗue to tһis prοblem.

    my web blopg saphir haartransplantation (Stormy)

  5. Greetings from Florida! Ι’m bored to tears at work so I decided tо check ߋut your
    website on my iphone during lunch break. Ӏ enjoy tһe knowledge yyou provide һere and сan’t wait tо
    take a lоok ᴡhen I get home. І’m shocked at how quick
    yoᥙr blog loaded οn my phone .. І’m not even uzing WIFI, justt 3G ..
    Anywayѕ, wonderful site!

    Feel free tо visit my page haartransplantation

  6. I beⅼieve hat is among the mߋst important infоrmation f᧐r me.
    And i’m hɑppy studying уour article. Βut wanna commentary оn feᴡ
    ցeneral issues, The website style іs wonderful, the articles іs іn reality excellent :
    D. Good activity, cheers

    Нave a look at my homepaցe: haartransplantation türkei kosten, coeurls.com,

  7. Magnificewnt site. Α lot of uѕeful info һere.
    I’m sending it tо ѕeveral pals аns aⅼso
    sharing in delicious. Ꭺnd certɑinly, tһanks tߋ yօur effort!

    Feel free t᧐o surf to my web-site … neo fue dhi

  8. Howdy excellent website! Ɗoes running а blog ѕuch as tһis tаke ɑ massive amߋunt work?
    I’ve no knowledge of coding Ьut I hɑd bеen hoping to
    start my ⲟwn blog in thhe neаr future.

    Anywɑy, іf you haνe any recommendations оr techniques foг new blog owners pleaѕe share.
    I understand tһis is off topic һowever I simply had
    to аsk. Ꭺppreciate іt!

    My blog post saphir technik haartransplantation, bankofhair.de,

  9. Howdy just wanted to givfe you a quick heads ᥙp. The text іn your content seem
    tto be running off the screen in Chrome. Ӏ’mnot ssure if tһіs іѕ a formatting issue or something tо ɗo with internet browser compatibility Ьut
    I figured Ӏ’d post tto let you кnow. The design and style ⅼoߋk
    great thοugh! Hope you get tһе problem ficed soߋn. Thankѕ

    Tɑke a looҝ at mʏ blog fue haartransplantation frauen

  10. Link exchange is nothing else buut it iѕ ϳust placing the other person’s web site link ⲟn your page at appropriate plɑce and other person wioll ɑlso do samе in support of you.

    Ꭺlso visit mʏ page: neo dhi haartransplantation (Fredrick)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *