These rare Marwaris who did not leave their karmabhoomi, became partners of the needy in Hyderabad
National

#LOCKDOWN ये विरले मारवाड़ी जिन्होंने नहीं छोड़ी अपनी कर्मभूमि, हैदराबाद में जरुरतमंदों के सहयोगी बने

– जालोर जिले के ऐलाना निवासी अर्जुनसिंह हैदराबाद के स्थानीय लोगों के लिए बने मददगार
जालोर. देशभर में लॉकडाउन और कोरोना के खतरे के बीच मुख्य रूप से मारवाड़ी प्रवासी राजस्थान की तरफ रुख कर चुके है और अपनी कर्मभूमि छोड़ कर काफी तादाद में अपने गृहनगर पहुंच भी चुके हैं। लेकिन इन विकट हालातों में भी कुछ विरले मारवाड़ी ऐसे भी है, जिन्होंने इन हालातों में भी अपनी कर्मभूमि को नहीं छोड़ा और वहीं के लोगों के लिए मददगार बने हुए हैं। जालोर जिले के अर्जुनसिंह ऐलाना ने ऐसी ही नजीर हैदराबाद में पेश की है। यहां इनका इलेक्ट्रिक का बिजनेस हैं, लेकिन कोरोना संकट के बीच कामकाज प्रभावित है, लेकिन इन हालातों में भी उन्होंने परिवार सहित राजस्थान की तरफ रुख नहीं किया, बल्कि वहां के लोगों के लिए पिछले करीब एक माह से राशन और पानी की व्यवस्था कर रहे हैं। बकौल अर्जुनसिंह ऐलाना हैदराबाद कर्मभूमि है, यहां से बहुत कुछ मिला। इन हालातों में इसे कैसे छोड़ सकते हैं। यहां के लोग भी हमारे अपने ही है। काफी लोग बेरोजगार हो चले हैं। जिसका सहयोग भी सभी का फर्ज है। अर्जुनसिंह प्रतिदिन जरुरतमंद लोगों के लिए राशन, केले, पानी के पाउच का वितरण कर रहे हैं। यह पूरा कार्य वह अपने दम पर ही कर रहे हैं। उनका कहना है कि इस विकट हालात में संभव है कि यह छोटा सा प्रयास किसी के लिए विशेष बन पड़े। इसी मंशा से छोटा सा प्रयास कर रहा हूं। आशा करता हूं जल्द ही हालात सुधरे और लोगों को इस भीषण महामारी से निजात मिले। अलबत्ता इन विकट हालातों में भी इस मारवाड़ी ने हैदराबाद में मारवाड़ की खास पैठ स्थानीय लोगों के समक्ष पेश की है, जो वाकई काबिले तारीफ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *