Uncategorized

इन गांवों से अब जालोर को खतरा ज्यादा, जानिये क्यों

– जालोर में कोरोना के 4 पॉजिटिव मिलने के बाद प्रशासन हरकत में, लेकिन चिंताएं भी
जालोर. अब तक कोरोना के खतरे से अछूते जालोर जिले में यकायक ही कोरोना एक संकट के रूप में आ खड़ा हुआ। 4 मई की रिपोर्ट के आंकड़े आने के बाद जिले से 4 कॉरोना पॉजिटिव मिलने के बाद अब प्रशासन पूरी तरह से मुश्तैद है और संभावित खतरे और संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए जरुरी कदम भी उठाए जा चुके हैं। लेकिन इन हालातों के बावजूद जालोर का बड़ा क्षेत्र ऐसा है, जहां वर्तमान में काफी तादाद में दिसावरी पहुंचे हैं। संभावना हैं कि इनमें से कुछ संदिग्ध हो। लेकिन यह अधिक से अधिक सेंपलिंग और जांच पर निर्भर करेगा। हालांकि बुधवार को चार पॉजिटिव मिलने से खतरे की घंटी जरुर बजी है। मामले में खास बात यह है कि जालोर में सायला, वीराना, रायथल, रेवतड़ा समेत बहुत से गांव ऐसे हैं, जहां से बहुत ज्यादा तादाद में लोग दक्षिण भारत, महाराष्ट्र, गुजरात समेत अन्य राज्यों में व्यापार करते हैं। वर्तमान हालातों ने इन लोगों के उद्योग धंधों की कमर तोड़ी तो इन लोगों ने छूट मिलने के साथ ही मारवाड़ की तरफ रुख किया। ऐसा करना इन लोगों की मजबूरी जरुर थी, लेकिन सीधे तौर पर यह खतरे को न्योता भी है। प्रशासन हालांकि हालातों पर नजरें रखे हुए हैं, लेकिन साथ ही यह अपेक्षा भी की जा रही है कि हालात नहीं बिगड़े।
डीएम खुद कर रहे मॉनिटरिंग
अब तक जिले के हालात ठीक ठाक थे और स्वयं कलक्टर हिमांशु गुप्ता अधिकारियों से जिले के हालातों का फीड बैक ले रहे थे। अब हालात बदले हैं और प्रभावित क्षेत्रों के लिए कड़ाई के निर्देश जारी किए गए हैं। वहीं अन्य क्षेत्रों के लिए भी विभागीय स्तर पर प्लान तैयार किया जा रहा है ताकि संभावित हालातों से निपटा जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *