Gold jewelery kept in SBI Bank's lock became stone
crime

जालोर SBI का मामला : 5 साल पहले लॉकर में रखे जेवरात बन गए पत्थर

राजस्थान आगाज. जालोर

लॉकडाउन के चलते दिसावर से लौटे एक प्रवासी को ऐसा झटका लगा, जिससे वह चकित और चिंतित है। मूल रूप से जालोर के पारसमल जैन का भिवंडी में व्यापार है। जैन ने पांच साल पहले तिलकद्वार स्थित एसबीआई बैंक में एक लॉकर लिया, जिसमें उसने सोने के आभूषण रखे थे। जब शुक्रवार को उसने बैंक लॉकर खोला तो उसमें वह आभूषण मौजूद नहीं थे।

पारसमल जैन का कहना है कि करीब 800 ग्राम सोने के आभूषण बैंक लॉकर में रखे थे। लेकिन अब आभूषण के बजाय उसमें मार्बल के टुकड़े थे। इस घटनाक्रम के बाद बैंक प्रशासन के माथे पर भी चिंता की लकीरें खिच आई है। यह प्रवासी भिवंडी में व्यापार करते हैं, जो लॉकडाउन के चलते करीब 20 दिन पूर्व ही जालोर लौटे थे।

प्रवासी पारसमल जैन ने बताया कि उन्होंने करीब पांच साल पहले एसबीआई बैंक में लॉकर लिया था और उसके बाद सोने के आभूषण रखे थे। अब लॉकर खोला तो उसमें आभूषण के बजाय मार्बल के टुकड़े ही थे। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

7 Replies to “जालोर SBI का मामला : 5 साल पहले लॉकर में रखे जेवरात बन गए पत्थर

  1. Pingback: buy hashish online
  2. Pingback: naakte borsten

Leave a Reply