Here the officers are so kind to the contractors that such a concession is given arbitrarily in the work of crores
crime Jalore

#SAYLA यहां अधिकारी ठेकेदारों पर इस कदर मेहरबान कि करोड़ों के काम में मनमर्जी से दी इतनी रियायत

– सायला पंचायत समिति क्षेत्र के अंतर्गत बड़ी गड़बड़ी की आशंका, जांच का विषय, कई ठेकेदारों ने धरोहर राशि निर्धारित राशि से बहुत कम जमा करवाई

सायला. सायला पंचायत समिति क्षेत्र के अंतर्गत होने वाले विभिन्न कार्यों की निविदा प्रक्रिया में बड़े स्तर पर घपले की आशंका है और इसमें ठेकेदार और अधिकारियों की सांठगाठ के आरोप भी लग रहे हैं, लेकिन उसके बाद भी विभागीय स्तर पर निविदा प्रक्रिया में नियम कायदे ताक पर रखकर अधिकारियों द्वारा न केवल शह दी जा रही है, बल्कि नियम विरुद्ध कार्य भी किए जा रहे हैं। मामले में सबसे खास बात यह है कि 50 लाख और इससे अधिक राशि के इन कार्यों की निविदा के लिए टैंडर प्रक्रिया में जमा होने वाली धरोहर राशि तक में मनमाफिक छूट दी गई है। जबकि नियमानुसार इन कार्यों के लिए बकायदा बीएसआर दर के अनुसार यह राशि जमा होनी चाहिए।

यहां दिख रहे अधिकारी मेहरबान

सूचना के अधिकार के तहत दलपतसिंह तूरा ने पंचायत समिति क्षेत्र के अंतर्गत हुई निविदा प्रक्रिया की जानकारी ली, जिसमें अनेक कमियां मिली है। इस सूचना में सायला पंचायत समिति क्षेत्र के अंतर्गत वर्ष 2019-20 में ग्राम पंचायतों के लिए विभिन्न सामग्री के लिए निविदा प्रक्रिया और उसमें जमा करवाई गई राशि का विवरण चैंकाने वाला है। इस सूचना के तहत सांगाणा में 45 लाख के कार्य के लिए टेंडर सुल्तान खां पुत्र सरदार खां सायला के खुला। इस कार्य के लिए धरोहर राशि 2 लाख 25 हजार जमा होनी चाहिए थी, लेकिन मात्र 22 हजार 500 रुपए ही जमा करवाए गए। इसी तरह सायला में 60 लाख के कार्य के लिए शौकत खां पुत्र सरदार खां के टेंडर खुला। इस कार्य के लिए धरोहर राशि 3 लाख रुपए जमा करवाए जाने थे, लेकिन अधिकारियों के मौन के चलते मात्र 1 लाख 20 हजार रुपए ही जमा करवाए गए। इसी तरह की लापरवाही ओटवाला के 45 लाख के कार्य में देखने को मिल रही है, जहां पर धरोहर राशि 2 लाख 25 हजार के स्थान पर मात्र 22 हजार 500 जमा करवाए गए। यह कार्य भी शौकत खां पुत्र सरदार खां का है। तूरा में 45 लाख रुपए के कार्य के लिए टैंडर सुल्तान खां पुत्र सरदार खां के खुला। इस कार्य के लिए बीएसआर दर से 10.50 प्रतिशत माइनस मे होने पर राशि 2 लाख 25 हजार जमा करवाए जाने थे, जिसकी बजाय मात्र 22 हजार 500 रुपए ही जमा करवाए गए।

यहां भी नजर अंदाजी दिख रही

शौकत खां और सुल्तान खां पर ही अधिकारियों की मेहरबानी नजर नहीं आ रही, बल्कि इसके अलावा डांगरा में सरवरी कंस्ट्रक्शन भीनमाल के 45 लाख रुपए के टेंडर खुलने पर 2 लाख 25 हजार के बजाय मात्र 22 हजार 500, आसाणा में परमेश्वरी कंस्ट्रक्शन कंपनी के 45 लाख के काम में 2 लाख 25 हजार की धरोहर राशि के स्थान पर 90 हजार, तीखी में राठौड़ ट्रेडिंग कंपनी के 45 लाख रुपए के काम में 2 लाख 25 हजार के स्थान पर 90 हजार रुपए, चैराऊ में आरती कंस्ट्रक्शन कंपनी के 45 लाख के कार्य के लिए बीएसआर दर से 15.52 प्रतिशत माइनस मे होने पर 4 लाख 73 हजार 400 रूपये के स्थान पर 90 हजार, आंवलोज में बाबूसिंह बालावत के 45 लाख रुपए के काम में बीएसआर दर से 31 प्रतिशत माइनस मे होने पर कुल जमा योग्य राशि 11 लाख 70 हजार के स्थान पर मात्र 90 हजार, खेतलावास में जय मां नागणेशी कंस्ट्रक्शन कंपनी सिरोही के 45 लाख के कार्य के लिए धरोहर राशि 2 लाख 25 हजार के स्थान पर 90 हजार और सुराणा में शिव टेऊडर्स द्वारा 45 लाख रुपए के कार्य के लिए 3 लाख 15 हजार के स्थान पर मात्र 90 हजार रुपए ही धरोहर के रूप में जमा करवाए गए हैं।

इनका कहना है

मुझे धरोहर राशि भरने के लिए नोटिस जारी किया था। इसके बाद निर्धारित समय में मंैने राशि जमा करावा दी, लेकिन कुछ ठेकेदारों ने राशि जमा नहीं करवाई हैं। उनके खिलाफ बीडीओ को नियामानुसार कार्रवाई करनी चाहिए।
– भैरगिरी, ठेकेदार

बीडीओ के निर्देश पर मैंने धरोहर राशि जमा करवा दी थी, लेकिन कई ठेकेदारों ने राशि जमा नहीं करवाई है। इस संबंध मे बीडीओ को कई बार कहा कि अन्य ठेकेदारों की धरोहर राशि भी जमा होनी चाहिए लेकिन उन्होने जमा नही करवाई है और उनके खिलाफ कार्रवाई तक नहीं हो रही।
– दलपतसिंह, ठेकेदार

नियमानुसार पहले धरोहर राशि जमा करवाई जाती है। यदि सायला पंचायत समिति क्षेत्र में टेण्डर प्रक्रिया के तहत धरोहर राशि जमा नही हुई है तो लिखित में शिकायत भेज दो, मैं बीडीओ से जानकारी लेता हूं।

– अशोक कुमार, मुख्य कार्यकारी अधिकारी जालोर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *