Officials gave assurance to provide container
crime Jalore

कंटेनर उपलब्ध करवाने के लिए अधिकारियों ने दिया आश्वासन

जालोर. जालोर के ग्रेनाइट को रेल मार्ग से उत्तर व दक्षिण भारत में कम लागत पर रेलवे कंटेनर के माध्यम से पहुंचाने की मांग पर गुरूवार को जालोर ग्रेनाइट एसोसिएशन के पदाधिकारियों से वार्ता के लिए रेलवे के उच्चाधिकारी जालोर पहुंचे।

जालोर के ग्रेनाइट व्यापारी लम्बे समय से उत्तर व दक्षिण भारत में ग्रेनाइट विक्रय के लिए रेलवे कंटेनर उपलब्ध करवाने की मांग कर रहे थे। इसी मांग को लेकर करीब महीना भर पहले कलक्टर हिमांशु गुप्ता से भी उद्यमी मिले थे और इस संबंध में सहयोग की बात कही थी। जालोर ग्रेनाइट व्यापारियों की मांग को लेकर कलक्टर गुप्ता ने रेलवे के उच्चाधिकारियों से वार्ता की और इसके बाद रेलवे अधिकारी गुरूवार को जालोर पहुंचे।

इस दौरान उन्होंने ग्रेनाइट एसोसियेशन के सभाभवन में दोपहर में ग्रेनाइट एसोसिएशन के पदाधिकारियों से वार्ता की । जिला प्रशासन की तरफ से वार्ता में एसडीएम चम्पालाल जीनगर ने प्रतिनिधित्व किया। बैठक में रेलवे की ओर से डीएसओ दिलीप खेड़ा सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे। बैठक में ग्रेनाइट की देश मे खपत व रोजाना जालोर से माल अपलोड कर जाने वाले ट्रकों की संख्या के बारे में चर्चा की गई।

रेलवे के अधिकारियों को ग्रेनाइट एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने बताया कि जालोर से बड़ी संख्या में माल अपलोड होकर ट्रकों के माध्यम से उत्तर व दक्षिण भारत के बड़े शहरों तक जाता है। जिससे माल की लागत बढ़ जाती है।

ऐसे में अगर रेलवे के माध्यम से माल बाहर भेजा जाता है तो इसकी लागत कम आएगी और आसानी से बड़ी मात्रा में ग्रेनाइट को बाहरी राज्यों मे भेजा जा सकेगा। रेलवे अधिकारियों ने ग्रेनाइट व्यापारियों की समस्या को ध्यान से सुनने के बाद जल्द से जल्द इसके लिए कंटेनर यार्ड की व्यवस्था का आश्वासन दिया।

उन्होंने एक बार फिर जालोर से बाहर ग्रेनाइट लेकर जाने वाले ट्रकों की संख्या का सर्वे जल्द से जल्द करवाकर रिपोर्ट देने की बात कही। वहीं जल्द ही दूसरे दौर की वार्ता के साथ सकारात्मक निर्णय का आश्वासन दिया। बैठक में ग्रेनाइट एसोसिएशन की ओर से संरक्षक सुमेरसिंह धानपुर, उपाध्यक्ष विशनाराम चौधरी, कोषाध्यक्ष नंदकिशोर मंत्री व सचिव बंशीधर चौधरी सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

7 Replies to “कंटेनर उपलब्ध करवाने के लिए अधिकारियों ने दिया आश्वासन

  1. Pingback: ks quik 2000
  2. Pingback: blote tieten

Leave a Reply