A dirt garden made in the name of the Chairman
Jalore

सभापति के नाम पर बना दिया गंदगी वाला बगीचा

– हेडपोस्ट ऑफिस रोड की दुर्दशा और आस पास उगी कंटीली झाडिय़ों को लेकर पार्षदों ने जताया आक्रोश

जालोर. शहर में पूरी तरह से बिगड़ चुकी सफाई व्यवस्था को लेकर लोगों में आक्राश है और लोग नगरपरिषद को कोस रहे हैं। इसी कड़ी में शिवाजी नगर में चरमराई सफाई व्यवस्था को लेकर कांगे्रस पार्षदों ने सभापति को घेरते हुए गांधीवादी तरीके से विरोध दर्ज करवाया।

कांगे्रस पार्षद व पूर्व नेता प्रतिपक्ष मिश्रीमल गहलोत के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने गंदगी और बदहाली पर विरोध जताते हुए सभापति गोविंद टांक नवनिर्मित गार्डन का बैनर लगाकर धरना- प्रदर्शन किया। इस गांधीवादी तरीके के जरिये सभापति का ध्यान बदहाल सफाई व्यवस्था, लीकेज सीवरेज लाइन की तरफ आकृष्ट किया गया। धरना स्थल पर गहलोत ने कहा कि सभापति से समस्या को लेकर बार-बार निवेदन करने के बावजूद भी समस्या का ध्यान नहीं दिया जा रहा। इन हालातों में आमजन बेहाल नजर आ रहा है।

शहर की सफाई व्यवस्था पूरी तरह से बिगड़ चुकी है। समय पर नालियां व नालों की सफाई नहीं होने के कारण नालियों व नालों का गंन्दा पानी सड़क पर बह रहा है। वहीं सीवरेज लाइन चॉक होने से गंदा पानी घरों के बाहर जमा होने से आमजन आहत और परेशान हो रहा हे। गंदगी के साथ साथ कंटीली बबूल झाडिय़ों की कटाई भी नहीं हो रही।

बारिश की सीजन होने से विषैले जानवरों का भय भी आमजन को सता रहा है। गंदगी, पानी के भराव और बबूल की झाडिय़ों के चलते मच्छर पनप रहे हैं, जिससे मौसमी बीमारियों का अंदेशा भी है। कोरोना महामारी के चलते शहर की सफाई व्यवस्था सुचारू रूप से करवाकर शहर को स्वस्थ रखना आवश्यक है, लेकिन सभापति महोदय की लापरवाही के कारण शहर कि सफाई व्यवस्था दिनों- दिन बिगड़ती जा रही है। भाजपा का बोर्ड गठन होने के करीब 09 माह बीत चुके है, शहर में दिनों-दिन आमजन कि मूलभूत सुविधाओं का हनन हो रहा है।

इस धरना प्रदर्शन में ममता जीनगर, सुखी देवी, निर्दलीय पार्षद सांवलाराम सांखला, मनोनीत पार्षद शीला चौधरी, कार्तिक दवे, कपुराराम परिहार, नवीन सुथार, सुमेरमल जीनगर, ओमप्रकाश जीनगर, जोगाराम सरगरा, लक्ष्मीनारायण दवे, फुसाराम माली, इरफान खान, फारूख काजी, सुरेश मेघवाल, महेन्द्र सोनगरा, आमीन नागौरीे, पुनीत चौधरी, जमाल भाई, राजेश जैन, विनोद कुट्टी, खुशवंत सिंह सहित कई जने मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *