Jalore RAJASTHAN

विभाग ही कुपोषण का शिकार

  •  सायला महिला एंव बाल विकास परियोजना कार्यालय में कई पद रिक्त

  • यहॉ पर जवाब देने वाला भी कोई नही

  • बाबू भी रहता है नदारद, आने वाले परेशान

सायला।
सायला ब्लॉक में जिस विभाग पर गर्भवती धात्री महिलाओं सहित बालको के विकास की जिम्मेदारी है, वह अधिकारीयों व कर्मचारियों की कमी से जूझ रहा है। स्थिति यह है कि सायला महिला एवं बाल विकास परियोजना कार्यालयों में कई पद रिक्त होने के कारण बच्चो का सर्वागीण विकास करने एवं विद्यालय जीवन के लिए पूर्ण रूप से बच्चों को तैयार करने की बाते बेमानी साबित हो रही है। साथ ही न तो सरकार की महत्वपूर्ण योजनाओं की सुचारू रूप से क्रियान्विति हो रही है ओर न ही पात्र व्यक्ति को लाभ मिल पा रहा है।

सायला ब्लॉक के महिला एवं बाल विकास परियोजना विभाग में सीडीपीओ के एक पद स्वीकृत है वो भी रिक्त चल रहा है। विभाग में सीडीपीओ सबसे महत्वपूर्ण कडी होती है लेकिन ब्लॉक में यह पद रिक्त होने के कारण विभाग का काम खासा प्रभावित हो रहा है।

यदि आपने राजस्थान आगाज के एप्प को डाउनलोड नही किया है तो आज ही नीचे दिए लिंक पर क्लिक कर डाउनलोड करे:—    https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rajasthan.aagaz.news

नही हो रही मॉनिटरिंग
महिला एंव बाल विकास परियोजना विभाग में सीडीपीओ का पद रिक्त होने के कारण जालोर के उप निदेशक को अतिरिक्त कार्यभार दिया हुआ है। सायला ब्लॉक में 280 आंगनवाडी केन्द्र है उनकी समय पर मॉनिटरिंग नही होने के कारण कई आंगनवाडी केन्द्र समय पर खुलते भी नही है।

बाबू रहता है नदारद
सायला महिला एंव बाल विकास परियोजना कार्यालय में कई पद रिक्त होने के कारण कार्यरत कार्मिक भी अपनी मनमर्जी से कार्यालय आ रहे है। इस विभाग में कार्यरत बाबू द्वारा महिला कार्यकर्ताओ व सहायिकाओं का मानदेय नही बनाने व बनाने मे बड़ा कारनामा सामने आ रहा है। जानकारी यह भी मिली है कि बिना कुछ दिए मानदेय बनाने मे आनकानी होती रहती है।

ये है स्थिति
पद स्वीकृत।                             रिक्त
सीडीपीओ 01                               01
सहा प्रशासनिक अधि 01                01
एलडीसी 01                                 00
कनिष्ठ लेखाकार 01                     01
महिला पर्यवेक्षक 08                      06
चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी 02                 01

shrawan singh
Contact No: 9950980481

4 Replies to “विभाग ही कुपोषण का शिकार

  1. Pingback: white berry strain

Leave a Reply