The SP announced this with the revelation of Bhikh Singh murder case ..
crime Jalore

भीखसिंह हत्या कांड के खुलासे के साथ एसपी ने यह कर दी घोषणा..

करीब 2 माह पूर्व दिन दहाड़े फागोतरा में हुए भीखसिंह के ब्लाइंड मर्डर केस का खुलासा

जालोर. झाब थाना क्षेत्र के अंतर्गत फागोतरा में करीब दो माह पूर्व दिन दहाड़े भीखसिंह हत्या प्रकरण का पुलिस ने खुलासा करते हुए मुख्य आरोपी को गिरफ्तार किया है। प्रकरण लूट से जुड़ा हुआ है और वारदात से एक दिन पूर्व 7 जुलाई को भी आरोपियों ने वारदात का मानस मनाया था, लेकिन अगले दिन 8 जुलाई को वारदात को अंजाम देने के साथ रुपए लूट ले गए।

शराब की अवैध ब्रांच पर भीखसिंह पुत्र हुकमसिंह राजपूत की हत्या के मामले में एसपी श्यामसिंह के निर्देशन में घटनाक्रम के बाद विशेष टीम का गठन किया गया। टीम ने प्रकरण में मुख्य आरोपी सुरेश पुत्र मांगीलाल विश्नोई निवासी खासरवी थाना सरवाना हाल सरनाउ को गिरफ्तार किया। साथ ही उसके सहयोगी सुरेश पुत्र किशनाराम निवासी रोहला की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।एसपी की अगुवाई में मामले का खुलासाअवैध शराब की दुकान पर घटित इस घटनाक्रम में संदेह के आधार पर संदिग्ध व्यक्तियों से घटना के संबंध में गहनता से पूछताछ के साथ तथ्य जुटाए गए। जिस पर महत्वपूर्ण जानकारी मिली।

जिसके आधार पर पुलिस ने 3 सितंबर को सुरेश पुत्र मांगीलाल विश्नोई निवासी खासरवी हाल सरनाउ को दस्तयाब कर पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया। वारदात को अंजाम देने में शामिल एक अन्य आरोपी सुरेश पुत्र किशनाराम विश्नोई निवासी रोहिला थाना धोरीमन्ना जिला बाड़मेर हाल केरिया की गिरफ्तारी के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। साथ ही घटना के समय काम में ली गई मोटर साइकल, कपड़े, लूट की राशि व अन्य वस्तुओं की बरामदगी के प्रयास जारी है।

यह रहा कारण

पुलिस की प्रारंभिक पड़ताल में सामने आया कि आरोपी सुरेश पुत्र मांगीलाल विश्नोई घटना से करीब 2-3 माह पूर्व फागोतरा में आया तथा भीखसिंह की शराब दुकान पर बीयर पी थी। तब सुरेश ने देखा कि शराब की दुकान सुनसान स्थान पर है तथा शराब विक्रेता भीखसिह बुजुर्ग व अकेला व्यक्ति है। इस दौरान उसने लूट का मानस बनाया।

वारदात की साजिश के तहत सुरेश ने दो तीन बार ग्राम फागोतरा में अपनी मोटर साइकल पर रैकी की। इसी कड़ी में वारदात से एक दिन पूर्व 7 जुलाई को संाचौर से चाकू खरीद कर अपनी मौसी के लड़के सुरेश पुत्र किशनाराम के साथ फागोतरा में भीखसिंह की शराब की दुकान पर पहुंचे।

वहां लोगों की चहल पहल होने से कुछ देर रुकने के बाद 200 रुपए भीखसिंह को देने के साथ दो पानी की बोतल लेने के साथ 180 रुपए जमा रखने के साथ वहां से लौट गए। इस दौरान आरोपियों को भीखसिंह ने रात 8 बजे तक दुकान खुली रखने की बात कही। घटनाक्रम के बाद पुलिस ने संदिग्धों से पूछताछ की तो उन्होंने वारदात को लेकर इन दोनों युवकों की भूमिका को संदिग्ध बताया था। यही पुलिस के लिए महत्वपूर्ण क्लू साबित हुआ। जिसके बाद पुलिस ने कड़ी से कड़ी जोड़ते हुए मामले का खुलासा किया।

ऐसे घटित हुआ घटनाक्रम

7 जुलाई की नाकामी के बाद दोनों युवक 8 जुलाई को फिर से फागोतरा पहुंचे। फागोतरा में आरोपी भीखसिंह की शराब दुकान पर आए तथा 2 बीयर खरीदी। इस दौरान भीखसिंह को आरोपियों ने 2 हजार रुपए का नोट दिया।

सुरेश पुत्र मांगीलाल ने एक बीयर पी ली व दूसरी थोड़ी पी। तब मृतक भीखसिंह खुले रुपए वापिस देने के लिए दुकान के अन्दर गया। तब शराब दुकान व आस-पास में भीखसिंह के अलावा अन्य कोई व्यक्ति नहीं था।

जिस पर मौका मिलने पर आरोपी सुरेश पुत्र मांगीलाल व सुरेश पुत्र किशनाराम ने दुकान में प्रवेश कर भीखसिंह के ऊपर चाकू से वार कर हत्या कर दी। इस दौरान भीखसिंह की पेंट की जेब से 7 हजार 500 रुपए लूट कर अपनी मोटर साइकल से फरार हो गए।

एसपी ने यह की घोषणा

एसपी श्यामसिंह ने नकद पुरस्कार और प्रशंसा पत्र की घोषणा की है। घटनाक्रम के खुलासे में एएसपी सांचौर दशरथसिंह, सांचौर पुलिस उप अधीक्षक विरेंद्रसिंह, एसआई गिरधरसिंह, उप निरीक्षक किरण कुमार, उप निरीक्षक अनु चौधरी, कांस्टेबल महेंद्र कुमार, मनोहरलाल, मांगाराम, किशनाराम, त्रिलोकसिंह, बंशु, श्रवण कुमार शामिल थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *