Jaipur

एक फौजी के सेवानिवृत्त होकर गांव पहुंचने पर ग्रामीणों ने इस प्रकार किया सम्मान

सैनिक सम्मान में निकाली जय जवान सम्मान यात्रा, तो सैनिक ने भी साझा किए अपने अनुभव

शाहपुरा संवाददाता संतोष कुमार वर्मा

निकटवर्ती गांव बिदारा निवासी कैलाश चंद गुर्जर के भारतीय सेना से सेवानिवृत्त होकर घर आगमन पर सामाजिक कार्यकर्ता पूरणमल बुनकर व उपसरपंच प्रतिनिधि संतोष कुमार प्रजापत के नेतृत्व मे युवाओं ने साफा व माल्यार्पण कर सम्मान किया। गौरतलब है कि गुर्जर भारतीय सेना में श्रीनगर, सियाचिन ग्लेशियर, तिब्बत, कारगिल, लेह-लद्दाख सहित देश की विभिन्न सीमाओं पर सेवा करते हुए 17 वर्षीय सेवा उपरांत दार्जिलिंग से सेवानिवृत हुए है।

निकाली जय जवान सम्मान यात्रा
जय जवान सम्मान यात्रा मे सैनिक कैलाश गुर्जर के साथ आगे-आगे देशभक्ति गीतों पर झूमते युवा, सैनिक के सम्मान में देशभक्ति के नारे लगाते महिलाएं, बच्चें व गांव के गणमान्य नागरिक सैनिक को नमन व उनका स्वागत कर रहे थे। गांव के युवा सैनिक के साथ फोटो खींचकर गौरवान्वित महसूस कर रहे थे। ग्रामवासी अपने सैनिक सपूत के साथ चलते हुए गर्व का अनुभव कर रहे थे।

गांव में जगह-जगह किया सम्मान
सैनिक का गांव में गुर्जर समाज, मीणा समाज, शर्मा समाज, बुनकर समाज सहित गांव की विभिन्न समाजसेवी संस्थाओं, शिक्षा संस्थानों व ग्रामवासियों ने भी सैनिक का स्वागत किया। महिलाओं व बालिकाओं ने सैनिक की आरती उतारकर अभिनंदन किया। यात्रा के समापन के अवसर पर वीर तेजाजी मंदिर में सैनिक का सम्मान समारोह रखा गया। जहां पर पूर्व सरपंच बलराम जोशी, मुरलीधर गुर्जर, हवलदार गौपाल गुर्जर, राजेश गुर्जर, रामकरण, राजवीर मीणा, शम्भूदयाल, हार्दिक ब्रजवाल, रूडमल, जयराम सहित ग्रामीण ने सैनिक को साफा, श्रीफल एवं माल्यार्पण आदि से सम्मानित किया।

सैनिकों ने भावुक होकर सुनाए अनुभव
विषम परिस्थियों में जान पर खेलकर देश की सेवा करने वाले वीर सैनिक गुर्जर ने अपने अनुभव साझा करते हुए बताया कि कई साथी युद्ध में हमारी आंखों के सामने देश की रक्षा में घायल हो जाते हैं एवं वीरगति को प्राप्त हो जाते हैं। लेकिन हमारी देशभक्ति का जज्बा और हौसला और बढ़ता है। तपती धूप हो या जमा देने वाली ठंड, ऊंच पहाड़ हो या गहरी घाटियां, बर्फ हो या तूफान हर हाल में सैनिकों के लिए देश पहले है। इसी जज्बे में सारी विषम परिस्थियों से हम लड़ पाते हैं और देश की हिफाजत करते हैं। वही हवलदार गौपाल गुर्जर, सैनिक कैलाश गुर्जर, धर्मवीर, संतोष सहित अन्य ने अनुभव सुनाते हुए सम्मान के लिए गांववासियों का आभार जताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *