National

लाॅक डाउन के दौरान भोजन के पैकेट्स एवं खा़द्य सामग्री की कोई कमी नहीं – कलक्टर

जालोर।
जिला कलक्टर हिमांशु गुप्ता ने बताया कि प्रशासन के पास बी.पी.एल., स्टेट बी.पी.एल, असहाय दिहाड़ी श्रमिकों एवं जरूरतमंद व्यक्तियों को जिले में कोरोना संक्रमण बचाव व्यवस्थाओं के तहत लाॅकडाउन की स्थिति में शत-प्रतिशत निःशुल्क उपलब्ध कराने के लिये भोजन के पैकेट्स एवं खाद्य सामग्री की कोई कमी नहीं है। इस व्यवस्था के लिये जिले को भामाशाहों एवं दानदाताओं का प्रशंसनीय सहयोग भी मिल रहा है।
यह जानकारी जिला कलक्टर ने शनिवार को अपने कक्ष में आयोजित प्रेस काॅफ्रेंस में मीडिया को दी। उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में राशन वितरण व्यवस्थायें दुरूस्त हैं। राज्य सरकार के निर्देशानुसार अप्रेल माह में खाद्य सुरक्षा में चयनित परिवारों को 5 किलो प्रति यूनिट के स्थान पर 10 किलो गेहूं निःशुल्क उपलब्ध कराने की व्यवस्था है। जो कि इस माह के प्रथम पखवाड़े में 5 किलो तथा द्वितीय पखवाड़े में 5 किलो प्रति यूनिट के हिसाब से वितरित किया जायेगा। अन्त्योदय परिवारों को 35 किलो गेहूं निःशुल्क मिलेगा। उन्होंने बताया कि जिले में उचित मूल्य के दुकानदार ईमानदारी से खाद्यान्न का वितरण कर रहे हैं। कहीं से शिकायत पाये जाने पर तुरन्त कार्यवाही की जाती है। उन्होंने बताया कि इसके अतिरिक्त जिले के ऐसे व्यक्ति जो किसी भी योजना में चयनित नहीं हंै या उन्हें किसी भी प्रकार की अन्य सहायता नहीं मिल रही है और वास्तविक रूप से गरीब हंै उन्हें 1 हजार रू. की नकद सहायता दी जा रही है। इसके लिये प्रत्येक पंचायत समिति के विकास अधिकारी को 3-3 लाख रूपये की राशि आवंटित की गई है। जिला कलक्टर ने बताया कि कोरोना संक्रमण बचाव राहत व्यवस्थाओं के लिये भामाशाह दानदाता स्व्रपे्ररित होकर सहायता दे रहे हैं। अब तक लगभग 30 लाख रूपये दिये गये हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण के संदेहास्पद या खांसी, जुकाम, बुखार के मरीजों के लिये भी पर्याप्त चिकित्सा व्यवस्थायें सुचारू रूप से संचालित की जा रही हैं। विशेष परिस्थितियों में उपचार के लिये वाय टैप मशीन्स की व्यवस्था की गई है।
उन्होंने बताया कि इस दृष्टि से सामान्य चिकित्सालय की ओपीडी व्यवस्था आयुर्वेद चिकित्सालय में शिफ्ट कर दी गई है तथा मरीजों को भर्ती करने की व्यवस्था नेत्र चिकित्सालय में की गई है। कोरोना संक्रमण के संदेहास्पद व्यक्तियों के लिये सामान्य चिकित्सालय में भर्ती करने एवं स्वास्थ्य जांच की सुविधा उपलब्ध रहेगी । कोरोना संक्रमण के संदेहास्पद एवं गंभीर पाये जाने वाले मरीजों को श्रीराम हाॅस्पीटल में भर्ती कर स्वास्थ्य जांच व चिकित्सा की व्यवस्था रहेगी। इसके अलावा लेटा में भी क्वारंटाइन सेंटर में संदिग्ध मरीजों के लिए चिकित्सा व्यवस्थाएं की गई हैं। उन्होंने बताया कि पीपीई किट पर्याप्त 200 की संख्या में उपलब्ध है जिन्हें चिकित्साकर्मियों को उपलब्ध करवाये जा रहे हैं। जिला पुलिस अधीक्षक हिम्मत अभिलाष ने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए गांव बचाओ अभियान चलाया जायेगा जिसके तहत ग्रामवासी उनके गांव में बाहर से आये व्यक्तियों की सूचना दें जिससे उनको होम आइसोलेट कर उनकी स्वास्थ्य जांच की जा सके।
मोबाइल नम्बर 7727050726 पर सूचना देने की विशेष व्यवस्था
पुलिस अधीक्षक ने जानकारी देते हुए बताया कि कोरोना संक्रमण के संबंध में बाहर से आने वाले व्यक्तियों की मोबाइल नंबर 7727050726 पर सूचना दी जा सकती है। इस नंबर पर कोई भी व्यक्ति वाॅट्सएप के माध्यम से भी सूचना दे सकता है। यदि कोई वीडियोग्राफी हो तो वो भी भेजी जा सकती है। भेजी जाने वाली सूचना सही होनी चाहिए जिससे कि संबंधित के लिए कार्यवाही की जा सके। उन्होंने कोरोनानुशासन बनाये रखने और सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करने की बात भी कही। यदि इसका पालना नहीं किया जायेगा तो संबंधित के विरूद्ध पुलिस मुकदमा दर्ज करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *