Uncategorized

शिक्षा का अर्थ किताबी ज्ञान नही बल्कि व्यवहारिक ज्ञान प्राप्त करना है – सरपंच

  • सरस्वती बाल विद्या मन्दिर का 25वां वार्षिकोत्सव मनाया
  • स्कूली विद्यार्थियों सहित दिल्ली के कलाकारो ने दी मनमोहक प्रस्तुतियां

मुकेश कुमार वैष्णव
सायला।
उपखण्ड मुख्यालय पर स्थित सरस्वती बाल विद्या मन्दिर उच्च माध्यमिक विद्यालय का 25वां वार्षिकोत्सव पायल पार्ट 2 का गुरूवार को विकास अधिकारी आवडदान चारण के मुख्य आतिथ्य एवं सरपंच रजनी कंवर की अध्यक्षता में आयोजन किया गया। बतौर विशिष्ठ अतिथि के नाते उपसरपंच प्रकाश कुमार, पूर्व सरपंच सुरेश राजपुरोहित, पूर्व उपसरपंच एवं समाजसेवी विक्रमसिंह दहिया, युकां प्रदेश महासचिव सुल्तानखान भाटी, डाॅ. रामसिंह राजपुरोहित एवं निजी शिक्षण संघ के जिलाध्यक्ष भलाराम सुथार मौजूद रहे।
समारोह का शुभारम्भ अतिथियों द्वारा मां सरस्वती की तस्वीर के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। इसके बाद अतिथियों एवं भामाशाहों का साफा, माला एवं स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मान किया गया। इस मौके मुख्य अतिथि विकास अधिकारी चारण ने विद्यार्थियों को पूर्ण लगन एवं मेहनत से अध्ययन करने की बात कही। साथ ही उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रेरित किया। सरपंच रजनी कंवर ने कहा कि शिक्षा का अर्थ केवल किताबी ज्ञान प्राप्त करना नही बल्कि व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त करना होना चाहिए। ताकि जीवन में विपरित परिस्थितियों में भी व्यक्ति पूर्ण धैर्य एवं संयम के साथ सफलता प्राप्त कर सके। साथ ही बालिका शिक्षा पर जोर दिया। प्रधानाचार्य हरीश त्रिवेदी ने विद्यालय का वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। संचालक अक्षय त्रिवेदी ने आभार भाषण दिया। समारोह में स्कूली विद्यार्थियों द्वारा एक से बढकर एक सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी गई। वही विद्यालय मे शैक्षणिक एवं सहशैक्षणिक गतिविधियों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले विद्यार्थियों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। मंच संचालन एस. अमन एवं नवाराम सुथार ने किया। इस दौरान दिनेश त्रिवेदी, नरेन्द्र कुमार, महेश त्रिवेदी, अशोक त्रिवेदी, दिनेश जीनगर, मुकेश कुमार छीपा, कर्मेश कानेकर, जयन्तिलाल जीनगर, शैलेन्द्र तिवारी, पटवारी परमेश्वरी, कनिष्ठ लिपिक दिनेश राजपुरोहित, ओमप्रकाश शर्मा, राजेश जैन, रूपकिशोर अग्रवाल, जसवन्तसिंह तूरा, नेहरूभाई सुथार, दलपतसिंह तूरा, नपाराम मेघवाल, अरविन्द लखारा, मदनलाल सिंघल सहित स्कूली विद्यार्थी, अभिभावक एवं ग्रामीण मौजूद थे।

कस्बे के सरस्वती बाल विद्या मन्दिर में वार्षिकोत्सव में प्रस्तुति देते स्कूली विद्यार्थी।

दिल्ली के कलाकारों ने बटोरी वाहवाही
वार्षिकोत्सव पायल पार्ट 2 के तहत सांस्कृतिक संध्या की शुरूआत मनोज रिया एण्ड पार्टी दिल्ली द्वारा गणेश वंदना द्वारा की गई। इसके बाद रामबालाजी दरबार, कृष्ण सुदामा मिलन एवं रासलीला आदि झांकियो की प्रस्तुति देकर वाहवाही बटोरी। अन्त में महाकाल भस्म आरती की प्रस्तुति देकर दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर लिया।

कस्बे के सरस्वती बाल विद्या मन्दिर में वार्षिकोत्सव में भामाशाह का सम्मान करते निदेशक।


भामाशाहों का किया सम्मान
समारोह में भामाशाह पूर्व सरपंच सुरेश राजपुरोहित, पूर्व उपसरपंच एवं समाजसेवी विक्रमसिंह दहिया, युकां प्रदेश महासचिव सुल्तानखान भाटी, जोमताराम माली, लुम्बाराम माली, हीरालाल माली, राहुल भंडारी, नैनमल लखारा, शिवराज कबदी, दीन मोहम्मद, किशोर त्रिवेदी का साफा एवं माला पहनाकर सम्मान किया गया। साथ ही स्मृति चिन्ह भेंट किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *