Uncategorized

लाॅकडाउन में मानवीय दृष्टिकोण को ध्यान में रखकर जिला प्रशासन कर्तव्यरत – कलक्टर गुप्ता

जिला कलक्टर ने मीडिया के सहयोग की भी प्रशंसा की

जालोर।
जिला कलक्टर हिमांशु गुप्ता ने गुरूवार को अपने कक्ष में प्रेस वार्ता के दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए किये जा रहे उपायों, व्यवस्थाओं तथा लाॅकडाउन की स्थिति में जन-जन को जागृत करने के लिए मीडिया के सहयोग की प्रशंसा की है। उन्होंने मीडिया से व्यवस्थाओं की कमियों के बारे मंे भी जानकारी प्राप्त की। साथ ही बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मंशानुरूप जिले में कोरोना संक्रमण बचाव एवं राहत की व्यापक स्तर पर व्यवस्थाएं की गई हैं। इसके लिए जिले में पर्याप्त संख्या में पुलिस, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य व अन्य विभागों से जुड़े अधिकारी व कर्मचारी संवेदनशील होकर अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन कर रहें हैं। उन्होंने बताया कि लाॅकडाउन को जनहित में गंभीरता से लागू करने और व्यवस्थाओं को चाक-चैबंद रखने के लिए मानवीय दृष्टिकोण को ध्यान में रखकर जिला प्रशासन कार्य कर रहा है। उन्हांेने बताया कि जिले की सीमाओं पर स्थित 14 चैकियों पर बाहर से आने वाले व्यक्तियों के स्वास्थ्य की जांच के लिए आवश्यक प्रबन्ध हंै। अब तक लगभग 30 हजार से ज्यादा व्यक्ति जिले में आये हैं। इसके लिए पुलिस प्रशासन भी संवेदनशीलता से कर्तव्यरत है। उन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग के प्रति जन-जन को जागृत करने के लिए किये गये प्रबन्धों की जानकारी भी दी। जिला कलक्टर ने मीडिया से कई बातों के बारे मंे सहयोग करने की अपेक्षा व्यक्त करते हुए कहा कि वे इस प्रकार से जिला प्रशासन का प्रचार-प्रसार संसाधनों से सहयोग करें जिससे कि कोरोना संक्रमण से स्वयं के बचाव के लिए व्यक्ति अधिकाधिक जागरूक हांे। लाॅकडाउन की स्थिति में किराणे, फल-सब्जी आदि आवश्यक खाद्य सामग्री की वस्तुओं की पूर्ति के लिए प्रशासन पूर्ण रूप से संवेदनशील है और इस संबंध में प्राप्त होने वाली शिकायतों का निस्तारण अविलम्ब करने की कार्यवाही की जाती है। उन्होंने इस बात की भी प्रशंसा की कि अब तो ग्रामीण भी इतने जागरूक हो गये हैं कि स्वयं ही बाहर से आने वाले एवं घर में आईसोलेट व्यक्तियों से अपने आप को सुरक्षित रखने के लिए सावधान रहने लगे हैं। प्रत्येक प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर रेपिड रेस्पोंस टीम कार्यरत है। जो कि व्यक्तियों के स्वास्थ्य की जांच आदि कार्यों का निर्वहन कर रही है। प्रत्येक ग्राम पंचायत स्तर पर टीम गठित है और संदेहास्पद मरीजों की विशेष देखभाल और उन्हें आईसोलेट करने के प्रबन्ध हैं। उन्होंने इस कार्य में मुख्य कार्यकारी अधिकारी, उपखण्ड अधिकारियों एवं इस कार्य में लगे चिकित्सा कर्मियों की प्रशंसा की।
सहायता कोष जालोर मंे 15 लाख की राशि जमा
जिला कलक्टर ने बताया कि वर्तमान में कोरोना संक्रमण से बचाव व्यवस्थाओं एवं गरीब जरूरतमंद व्यक्तियों की मदद के लिए भामाशाह व दानदाताओं ने आगे होकर जिला प्रशासन का सहयोग करना शुरू कर दिया हैं। जरूरतमंद व्यक्तियों को भोजन के पैकेट्स एवं खाद्य सामग्री भी उपलब्ध करवा रहे हैं। साथ हर कहा कि जिला प्रशासन को धन राशि की कोई ज्यादा आवश्यकता नहीं हैं, प्रशासन की मंशा है कि भामाशाह, दानदाता जिले की ग्राम पंचायतों को गोद लेकर स्वयं अपने स्तर से मरीज, काश्तकार, दिहाड़ी मजदूरों को आवश्यक सहायता के रूप में भोजन के पैकेट्स व खाद्य सामग्री सीधे ही उपलब्ध करवाएं। अब तक जिले में जरूरतमंद व्यक्तियों को पर्याप्त मात्रा में खाद्य सामग्री किट व भोजन के पैकेट्स उपलब्ध करवाये जा चुके हैं और यह व्यवस्था निरन्तर जारी रहेगी।
आटा चक्की खुली रहेंगी, चारा परिवहन पर कोई रोक नहीं
जिला कलक्टर ने बताया कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार आटा चक्की खुली रहेंगी और जिले में चारा परिवहन वाहनों के आवागमन पर कोई प्रतिबन्ध नहीं हैं। किराणा की दुकान, ताजा फल सब्जी की दुकान भी खुली रहेगी। इस दौरान जिले के मीडिया प्रतिनिधि, अतिरिक्त जिला कलक्टर सी.एल.गोयल, मुख्य कार्यकारी अधिकारी अशोक कुमार मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *